Saturday, November 3, 2012

ए वक़्त अब मुझको बता दे , तेरा क्या इरादा है

इक कलम  रखा हुआ है ,काग़ज़ भी आज सादा है 
ए वक़्त अब मुझको बता  दे , तेरा क्या इरादा है

एक पतंग की तरह से है हमारी ज़िन्दगी,
रब के हाथों में ही इस ज़िन्दगी  का धागा है 

रस्म-ओ-रिवाज़ ,रंग-रूप हैं बहुतेरे मगर 
एक ही काशी है और एक ही तो काबा  है 

शेख जी उन मस्जिदों में ही नहीं रहता खुदा 
है सच जहाँ  कमतर और झूठ बहुत ज्यादा है  

अभी बस  समंदर में उतारी है अपनी कश्तियाँ
खानाबदोशों का सफ़र, अब तलक आधा है  

ले चलो मुझको भी उस शहर में ए दोस्तों 
हो नहीं कोई वजीर ,न कोई जहाँ प्यादा है 

न वो रहे गुमसुम कभी,न ये रहे सादा कभी 
काग़ज़ों से कलम का एक ही बस वादा है 

आज भी लिखता  हैं वो  नील आँखों का बयाँ 
सोया नहीं है,काग़ज़ों में अब तलक जागा है 

3 comments:


  1. एक ही काशी है और एक ही तो काबा है
    बहुत ख़ूब !
    नीलांश जी
    अच्छे काव्य-प्रयास के लिए बधाई !

    लिखते रहें … और श्रेष्ठ लिखते रहें …
    शुभकामनाओं सहित…

    ReplyDelete
  2. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    ReplyDelete